Tuesday, October 08, 2013

जेल से भागा कैदी, और मियां-बीवी...

सेंट्रल जेल में अचानक आग लगने से अफरातफरी मच गई, और उसी दौरान पिछले सात साल से बंद एक बेहद खतरनाक कैदी को भागने का मौका मिल गया...

कैदी बचता-बचाता एक बस्ती तक पहुंच गया, और चुपके से एक घर में घुसा, जहां एक जवान मियां-बीवी बिस्तर पर सोने की तैयारी कर रहे थे...

उन्हें देखते ही कैदी की आंखों में चमक आ गई, और वह चीखकर पति से बोला, "चल साले, बिस्तर से नीचे उतर..."

पति डर के मारे तुरन्त नीचे उतर गया, और कैदी ने उसे कुर्सी से बांध दिया...

इसके बाद कैदी बिस्तर पर पहुंचा, पत्नी के हाथ-पांव बिस्तर से बांध दिए, और नीचे झुककर उसकी गरदन को चूमा...

फिर वह बिस्तर से उठा, और सीधा गुसलखाने की तरफ चला गया...

यह सब देखकर पति ने घबराई-सी आवाज़ में पत्नी से कहा, "सुनो, मुझे यह आदमी बहुत खतरनाक लग रहा है, और लगता है कि यह कई सालों से जेल में बंद था, इसलिए मेरा अंदाज़ा है, इसने कई सालों से सेक्स नहीं किया है और तुम्हें देखकर इसके अरमान जाग गए हैं... मैंने देखा, इसने तुम्हारी गरदन को किस तरह चूमा था, सो, मुझे लगता है, यह तुम्हें छोड़ेगा नहीं... लेकिन तुम कतई मत घबराना, मैं तुम्हें हमेशा प्यार करता रहूंगा... बस, तुम इसको संतुष्ट करके भेज दो, वरना अगर इसे गुस्सा आ गया, तो यह हम दोनों को मार डालेगा... हिम्मत मत हारना, मेरी जान, बस, इतना याद रखना, मैं तुमसे बहुत प्यार करता हूं..."

बीवी ने तपाक से कहा, "आपको गलतफहमी हुई है, जी, वह मेरी गरदन नहीं चूम रहा था... वह तो मेरे कान में फुसफुसाकर यह बता रहा था कि वह गे (समलैंगिक) है, और उसे तुम बहुत क्यूट लगे... फिर उसने पूछा, घर में वैसलीन है क्या, तो मैंने उसे बताया कि वैसलीन बाथरूम में है... वह वही लेने गया है... हिम्मत मत हारना, मेरी जान, बस, इतना याद रखना, मैं भी तुमसे बहुत प्यार करती हूं..."

No comments:

Post a Comment

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

मेरी पहेलियां...

मेरी पसंदीदा कविताएं, भजन और प्रार्थनाएं (कुछ पुरानी यादें)...

मेरे आलेख (मेरी बात तेरी बात)...