Thursday, July 29, 2010

शरारती सार्थक और उसका तोता...

शरारती सार्थक का अपने पालतू बोलने वाले तोते से मन भर गया, और उसने नीलामी के लिए अख़बार में इश्तिहार (विज्ञापन) दे दिया...

आखिरकार नीलामी का दिन आया, और 1,000 रुपये से शुरू होकर अंततः बोली 25,000 रुपये पर जाकर खत्म हुई...

जिन बुजुर्ग ने अपना मन बहलाने के लिए वह तोता 25,000 रुपये की बोली देकर खरीदा था, उन्होंने मुस्कुराते हुए सार्थक से सवाल किया, "बेटा, यह तोता सचमुच बोलता है न...?"

शरारती सार्थक ने तपाक से जवाब दिया, "अजी, बिल्कुल बोलेगा... यही तो आपके खिलाफ बोली बढ़ा रहा था..."

2 comments:

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

कौन हूं मैं...

मेरी पहेलियां...

मेरी पसंदीदा कविताएं, भजन और प्रार्थनाएं (कुछ पुरानी यादें)...

मेरे आलेख (मेरी बात तेरी बात)...