Wednesday, January 12, 2011

जो आप कहेंगे, बना दूंगी...

पतिदेव : आज रात के खाने में क्या बना रही हो, जानेमन...?

पत्नी : जो आप कहें...

पतिदेव : अरहर की दाल और चावल बना लो...

पत्नी : अभी कल ही तो खाए थे...

पतिदेव : तो फिर मटर-पनीर की सब्ज़ी और रोटी बना लो...

पत्नी : आपके बच्चे नहीं खाते मटर-पनीर...

पतिदेव : अच्छा, फिर छोले-पूरी बना लो...

पत्नी : नहीं, नहीं... मुझे बहुत हैवी-हैवी लगता है...

पतिदेव : एक काम करो, अण्डा-आलू बना लो...

पत्नी : फिर सुबह नाश्ते में क्या खाओगे...?

पतिदेव : तो आलू के परांठे ही खिला दो...

पत्नी : रात के वक्त परांठे कौन खाता है...?

पतिदेव : फिर होटल से ही मंगवा लेते हैं...

पत्नी : रोज़-रोज़ बाहर का खाना नहीं खाना चाहिए न...?

पतिदेव : कढ़ी-चावल बना सकती हो...?

पत्नी : खट्टा दही नहीं है, सो, वह भी नहीं बन सकती...

पतिदेव : मसाला डोसा और सांभर...?

पत्नी : हाथ के हाथ कैसे बना दूं... पहले बोलना चाहिए था, बहुत वक्त लगता है तैयारी में...

पतिदेव : यार, एक काम करो, मैगी ही बना दो...

पत्नी : वह कोई खाना है... उससे पेट कहां भरता है...?

पतिदेव : तो फिर तुम ही बताओ, क्या बनाने का इरादा है...?

पत्नी : जो आप कहें...

3 comments:

  1. हा-हा-हा
    सुबह-सुबह मजा आ गया

    प्रणाम

    ReplyDelete
  2. अन्तर भाई, यशवन्त भाई, धन्यवाद... :-)

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

कौन हूं मैं...

मेरी पहेलियां...

मेरी पसंदीदा कविताएं, भजन और प्रार्थनाएं (कुछ पुरानी यादें)...

मेरे आलेख (मेरी बात तेरी बात)...