Wednesday, August 17, 2011

संता सिंह, और याद करने वाली...

संता सिंह ने फोन पर नंबर पंच किया, उधर से आवाज़ आते ही बोले, "मेरी जान, मैंने सोचा, तुम मुझे याद कर रही होगी, सो, फोन मिला लिया..."

पत्नी की आवाज़ आई, "अभी दो मिनट पहले एक घंटे की लड़ाई के बाद तुमने फोन रखा है, और तुम्हें लगता है, मैं फिर भी तुम्हें ही याद कर रही हूं..."

संता के मुंह से तुरंत निकला, "अरे बाप रे, फिर घर का नंबर मिल गया..."

No comments:

Post a Comment

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

मेरी पहेलियां...

मेरी पसंदीदा कविताएं, भजन और प्रार्थनाएं (कुछ पुरानी यादें)...

मेरे आलेख (मेरी बात तेरी बात)...