Friday, August 19, 2011

कुछ मज़ेदार नारे, रामलीला मैदान से...

कुछ मज़ेदार नारे, रामलीला मैदान से...

- हू हू हा हा... कपिल सिब्बल चूहा...

- मनमोहन सिंह, एक काम करो... चूड़ी पहनकर डांस करो...

- वो सरकार निकम्मी है... जिसमें राहुल की मम्मी है...

- गली का कुत्ता कैसा हो... कपिल सिब्बल जैसा हो...

- मनमोहन जिसका ताऊ है... वो सरकार बिकाऊ है...

- युवा हिन्द का जाग गया... देखो, राहुल भाग गया...

- करप्शन इज़ द वायरस... अन्ना हैं एन्टी-वायरस...

...और यह वाला बेहतरीन था, क्योंकि पुलिस अधिकारियों के बगल में खड़े होकर चिल्लाया गया...
- ये अन्दर की बात है... पुलिस हमारे साथ है...

4 comments:

  1. विवेक भाई
    बस आखिरी वाला ही बेहतरीन था
    बाकी पहले के आपत्तिजनक हैं और बेहूदा भी ...

    ReplyDelete
  2. प्रकाश भाई, बिल्कुल सहमत हूं, परंतु हमारे देश में भीड़ का मनोविज्ञान साफ-सुथरा और बेहूदा शायद नहीं समझता... :-)

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

कौन हूं मैं...

मेरी पहेलियां...

मेरी पसंदीदा कविताएं, भजन और प्रार्थनाएं (कुछ पुरानी यादें)...

मेरे आलेख (मेरी बात तेरी बात)...