Thursday, July 22, 2010

संता सिंह, 12 बच्चे, और नसबंदी की सलाह...

संता सिंह की पत्नी ने पिछले माह ही अपने 12वें बच्चे को जन्म दिया था, और अब उन्होंने तय किया कि यह उनका आखिरी बच्चा होगा...

आपस में सलाह-मशविरा करने के बाद अंततः संता एक प्रसिद्ध डॉक्टर के पास गया और उसे अपनी आवश्यकता बताई...

डॉक्टर ने सारी बात सुनने के बाद कहा, "आपकी इच्छा नसबंदी नामक छोटे-से ऑपरेशन से पूरी हो सकती है, लेकिन मेरे पास आपके लिए उससे भी आसान तरीका है..."

संता उत्सुक हो उठा, और उसने पूछा, "वह क्या, डॉक्टर साहब...?"

डॉक्टर ने कहा, "आप घर जाकर एक बड़ा-सा सुतली बम (दिवाली का पटाखा) लें, उसे कोका कोला या पेप्सी के कैन में डालें, सुतली बम को जलाएं, और कैन को कान के पास रखकर 10 तक गिनती बोलें..."

संता ने सारी बात ध्यान से सुनी, और फिर झिझकते हुए डॉक्टर से कहा, "मैं मानता हूं, डॉक्टर साहब, कि मैं बहुत ज़्यादा समझदार नहीं हूं, लेकिन सुतली बम को कोक कैन में डालकर कान के पास रखने से मेरी समस्या का इलाज कैसे मुमकिन है..."

डॉक्टर ने इसके बाद भी जब यही इलाज बताया तो संता सेकंड ओपिनियन लेने के इरादे से एक अन्य डॉक्टर के पास गया...

लेकिन आश्चर्यजनक रूप से दूसरे डॉक्टर ने भी उसे बिल्कुल वही सुतली बम वाली सलाह दी, जो पहले डॉक्टर ने दी थी...

अब संता ने घर आकर अपनी पत्नी से अपना अनुभव सुनाया, और इस नतीजे पर पहुंचे, कि दोनों डॉक्टर एक जैसा इलाज बता रहे हैं, सो, गलत नहीं हो सकते...

सो, संता बाज़ार से सारा ज़रूरी सामान लाए, कोक कैन लेकर सुतली बम उसमें रखा, जलाया, एक हाथ में कैन को उठाकर अपने कान के करीब रखा, दूसरे हाथ की अंगुलियों पर गिनती करने लगा, 1... 2... 3... 4... 5..., और फिर दूसरे हाथ की अंगुलियों पर गिनने के लिए कैन को अपनी दोनों टांगों के बीच दबाया, और…

6 comments:

  1. शुक्रिया, सहसपुरिया जी... :-)

    ReplyDelete
  2. वाह वाह वाह
    आपका ब्‍लॉग पसंद ही नहीं, बहुत पसंद आया। आइये चौखट पर आपको भी आपकी पसंद का ब्‍लॉग मिलेगा।
    http://chokhat.blogspot.com/

    ReplyDelete
  3. श्याम कोरी 'उदय' जी, प्रशंसा के शब्दों के लिए धन्यवाद...

    ReplyDelete
  4. बहुत-बहुत शुक्रिया, पवन 'चंदन' जी...

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

कौन हूं मैं...

मेरी पहेलियां...

मेरी पसंदीदा कविताएं, भजन और प्रार्थनाएं (कुछ पुरानी यादें)...

मेरे आलेख (मेरी बात तेरी बात)...