Wednesday, August 24, 2011

प्रेमी-प्रेमिका, और मोहल्ले में चूमाचाटी...

एक प्रेमी युगल को कई दिन से मुलाकात का मौका नहीं मिल रहा था, सो, एक दिन वे मोहल्ले के पार्क में ही एक पेड़ के पीछे बैठकर चूमा-चाटी करने लगे...

वहां से गुज़रते एक बुजुर्ग ने उनकी हरकत को देखा, और ठिठककर बोले, "अमां बरखुरदार, क्या यह हमारी तहज़ीब है...?"

लड़के ने तपाक से जवाब दिया, "नहीं, नहीं चचाजान, यह तो गुप्ता जी की बेटी शकुन है..."

2 comments:

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

कौन हूं मैं...

मेरी पहेलियां...

मेरी पसंदीदा कविताएं, भजन और प्रार्थनाएं (कुछ पुरानी यादें)...

मेरे आलेख (मेरी बात तेरी बात)...